img
img
img

एसडी पीजी कॉलेज के खिलाडियों का कुरुक्षेत्र विश्वविधालय योग चैंपियनशिप 2017 में शानदार प्रदर्शन -अजय, विकास, सागर, अंकित और दीपांशी ने जीते रजत -दीपांशी आल इंडिया इंटर-यूनिवर्सिटी के लिए भी चयनित

admin  1 week, 5 days ago Top Stories

PANIPAT AAJ KAL : एसडी पीजी कॉलेज के खिलाडियों अजय, विकास, सागर, अंकित और दीपांशी ने कुरुक्षेत्र विश्वविधालय योग चैंपियनशिप 2017 में शानदार प्रदर्शन करते हुए रजत पदक जीत कर कॉलेज और जिले का मान बढाया. कॉलेज पहुँचने पर एसडी पीजी कॉलेज प्रधान श्री दिनेश गोयल, प्राचार्य डॉ अनुपम अरोड़ा, शारीरिक शिक्षा विभागाध्यक्ष प्रो सुशीला बेनीवाल, प्रो गीता मलिक, प्रो नीलम देसवाल और स्टाफ सदस्यों ने विजेता खिलाडियों का स्वागत किया और उनकी हौंसला अफजाही की. कुरुक्षेत्र विश्वविधालय योग चैंपियनशिप का आयोजन हाल ही में कुरुक्षेत्र विश्वविधालय स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स में हुआ जिसमे जिले भर के कालेजो की टीमो ने भाग लिया. दीपांशी का चयन तो आल इंडिया इंटर-यूनिवर्सिटी के लिए भी हो गया है. विदित रहे की अजय (बीए प्रथम) इंटर-कॉलेज में दूसरा स्थान, विकास (बीए द्वितीय) राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में स्थान, सागर (बीए प्रथम) ओपन नेशनल में स्थान, अंकित (बीए प्रथम) इंटर-कॉलेज में दूसरा स्थान प्राप्त कर चुके है. दीपांशी (बीएससी प्रथम) के चयन ने सभी विजेता खिलाडियों की उपलब्धियो पर चार-चाँद लगा दिया है.      

प्राचार्य डॉ अनुपम अरोड़ा ने इस अवसर पर विजेता खिलाडियों का हौंसला बढ़ाते हुए कहा की योग मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है और यह बात भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी साबित की है. सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण उन्होंने कहा था की योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है. यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक है; मनुष्य और प्रकृति के बीच का सामंजस्य है; विचार, संयम और पूर्ति प्रदान करने वाला है तथा स्वास्थ्य और भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण को भी पैदा करता है. यह व्यायाम के बारे में नहीं है बल्कि अपने भीतर एकता की भावना, दुनिया और प्रकृति की खोज के विषय में है. हमारी बदलती जीवन-शैली में यह चेतना बनकर, हमें जलवायु परिवर्तन से निपटने में भी मदद कर सकता है. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाना भी योग के महत्व को ही दर्शाता है. इन खिलाडियों ने ना सिर्फ योग को अपनाया है बल्कि इसमें पदक जीत कर यह भी साबित किया है की योग हर प्रकार से हमारी उन्नति में मददगार सिद्ध हो सकता है. योग से ना सिर्फ तनाव दूर होता है बल्कि मन एवं मस्तिष्क भी चुस्त-दुरुस्त रहता है. योग व्यक्तिगत चेतना और खुद की आत्मा से मिलने का सबसे बेहतर तरीका है.  

एसडी पीजी कॉलेज प्रधान श्री दिनेश गोयल ने सभी खिलाडियों को शाबाशी देते हुए उनके शानदार प्रदर्शन की जमकर तारीफ़ की. उन्होनें कहा की कॉलेज प्रशासन हमेशा ही खिलाडियों, सांस्कृतिक गतिविधियों और शिक्षा के बीच एक सामंजस्य बनाने का प्रयास करता रहा है ताकि हर विद्यार्थी के व्यक्तित्व का समग्र विकास हो सके और हर एक छात्र-छात्रा को जीवन में आगे बढ़ने का बराबर अवसर मिल सके. योग में पदक जीत कर इन खिलाडियों ने हमें यह सिखाया है की भविष्य निर्माण किसी भी मार्ग से हो सकता है. जरुरत सिर्फ लगन, मेहनत और अनुसाशन की है. योग भावनात्मक एकीकरण और रहस्यवादी तत्व का स्पर्श लिए हुए एक आध्यात्मिक उंचाई है जो हम सभी को कल्पनाओं से परे की एक झलक देने में पूर्ण रूप से सक्षम है. 

इस अवसर पर कॉलेज के स्टाफ सदस्य डॉ संगीता गुप्ता, डॉ भारती गुप्ता, डॉ सुरेन्द्र कुमार वर्मा, प्रो सुशीला बेनीवाल, प्रो गीता मलिक, प्रो नीलम देसवाल और दीपक मित्तल भी मौजूद रहे.


img
img
img